Friday, February 8, 2008

स्‍त्री एक पज़लिंग, अनरेलायबल मिस्‍ट्री है?

बिलाग के बाबा लोग और बडका लोग चोखेर बाली को समझ नही पा रहे । यू नो वाय ? अबे ,तिरिया चलित्तर को जब भगवान नही समझ सका तो तू तो आदमी है ; गलतियों का पिटारा , बेचारा । औरत को समझने में पूरी ज़िन्दगी इहाँ उँहा झक मारता रह जाता है ।कमबख्त ! समझ नही आता आखिर चाहती क्या है । पाँयचा दो गिरेबाँ पकडती है । देखो शर्त मानी शांतनु ने और उल्लू बना । बाबा लोग को उनसे बडा हमदर्दी है । क्या है कि एक उत्पीडित मेने सेल बानाय का है अबी , इसी टाइम । बहुत हुआ !पत्नी खाना नही बनाती ? ब्लॉगिंग करती है ? फेमिनिस्म का डर दिखाती है ? एकजुट होकर झण्डा उठाती है ? सम्वाद चाहती है ?? मिस्ट्री बनती जा रही है ? तो उत्पीडित पति मिलें ---- अध्यक्ष ,मेन सेल । ब्लॉग पर आ रही हैं ,चलो आने दिया । जाने इनके पति क्या खाकर जीते होंगे [ब्लॉगिंग से फुर्सत हो तो खाना बनाएँ ! उँह! ] कविता लिखी , लिखने दी ।हमने वाह वाह ही की । विमर्श करने लगी , हमने कहा लगे रहो अच्छा लिख लेती हो । विवाद में पडना चाहा , सो हमने रोका । माने नही , बुरी-भली सुन के मानीं । पाब्लो फाब्लो पढने लगीं । चलो वह भी कर लेने दिया । अब ई का बला है ?? ओह मैन ! विमेन विल बी विमेन आल्वेज़ ! सैड्ड्ड !इतनी आवाज़ उठाकर भी कहती है आवाज़ बुलन्द् करो !
देखो , सीधी बात है ।इतना टाइम नही , सम्वाद फम्वाद , मवाद ,विवाद करने को । शुरु से यही सिखाया गया है - औरत एक मिस्ट्री है , कोई समझ न पाया , ऐसी ही इसकी हिस्ट्री है । इसलिए चाह कर भी इसके पास नही गये कभी डर से । हनुमान जी को याद किया । जब पास आये तो मुकाबला कर लेंगे इस मर्दानगी के अहसास से आये । वह कभी नही बोली ।खुल के बोलती ही नही हमारी तरह ;कैसे समझें । बोलने का कल्चर ही नही मिला ! तो टाइम बर्बाद करने का नही ।
वैसे भी इन्हें कभी संतोष नही होने का ।ये नया शगल कर देखने दो । स्त्रियाँ ही पढें , वे ही लिखें । उनकी दुनिया उन्हें मुबारक।तुम वहाँ मत जाना । जाने क्या चक्रव्यूह रचा है । एक बार कह दिया , हम साथ हैं सार्थक सम्वाद चाहते हैं तो गला पकड लेंगी । करना रोज़ सम्वाद । हम ताली बजाएँगे, तुम गाल बजाना । ओके ।
कबीर ने भी कह दिया है वही जो हम कह रहे हैं
"नारी की झाँई परत अन्धा होत भुजंग " साँप तक अन्धा हो जाता है हम तो....
वह महाठगिनी है । हमसे पूछो ।आस्क मेन ।जाना ही है पास तो सचेत जाओ । एजेन्डा साफ हो ।

9 comments:

रचना said...

stri ko samejhna itan jarurii kyon haen notepad behana

Kakesh said...

ये बाबा लोग तो समझ आया ये बड़का लोग कौन हैं जी...

सुजाता said...

रचना ,यह इमेज जानबूझ कर बनाई गयी है स्त्री की ।ताकि उसके मामले मे बाकी भी और वह खुद भी कनफ्यूज़्ड रहे । वह बिल्कुल स्पष्ट है । उसे अस्प्ष्ट तो पुरणो मिथकों इतिहास लेखकों और समाज के ठेकेदारों ने ही बनाया है ।
ककेश , बडका लोग कि टिप्प्नी मायना रखती है । वे जहाँ टिपिया दें वहाँ माखी भिनभिनाने लगती है ।जोक्स अपार्ट , कुछ तो होते ही है हर जगह स्वनाम् ध्न्य ।

बाज़ार said...

@kakesh
काहे बड़का लोग नाही समझते हो ? अब नाम लेईका पड़ी का ? काभऊँ हमरे ब्लोग पर अपनी नैनन के तीर डालो वहाँ नाम के साथ ही साफ लिखा है की कौन चिकोटी काट ता है और कहता है हम चिकोटी भरे हैं

Pratyaksha said...

बाबा ,बडका , बेबी , बेबा ..सब समझते हैं कौन क्या है लेकिन अफरा तफरी में ऐसा न हो अपने ही पोस्ट पर गोल कर डालें ? बड़ी भीड़ है भाई , इस मेले का क्या करें ?

चंद्रभूषण said...

इतना रिएक्शन किस लिए? क्या मिस्ट्री होना हमेशा अपमानजनक ही होता है? स्त्रीजाति के संबंध में सीमोन द बोउआ ने ऐसा कह दिया इसलिए? बोउआ खुद के लिए नहीं रही होंगी मिस्ट्री। मुझे लगता था मेरे लिए भी नहीं हैं। लेकिन हाल में प्रकाशित 'मुग्धा नायिका नुमा' उनकी चिट्ठियां क्या इस बात की तस्दीक करती हैं? क्या दुनिया में किसी के लिए (यहां तक कि खुद के लिए भी) किसी का मिस्ट्री होना या न होना उसके वश में है?

Priyankar said...

भूमिका-पोस्ट-श्रंखला थोड़ी लम्बी हो रही है और मेलोड्रामाई भी . चोखेर बाली जब शुरु हुआ है तो जाहिर है विशिष्ट मुद्दों पर गम्भीर बहस की उम्मीद है . फिलहाल तो सांचोपांजा की तरह पनचक्कियों से तलवारबाजी होती दिखती है . जिसको कहते हैं हवा में लट्ठ घुमाना .

ठोस बहस और सही विमर्श संभव होगा मुद्दों पर केन्द्रित तार्किक बहस से,साफ-सुथरे,संयत और सहजप्रवाही गद्य से,अभिव्यंजनावाद के विस्तार और गद्य-काव्य से नहीं . उसके लिए तो व्यक्तिगत ब्लॉग हैं ही .

आशा करता हूं इसे सही परिप्रेक्ष्य में लिया जाएगा .

Tarun said...

Agar Anyatha na len to hum bhi Priyankar ki baat se sehmat hain.

Aur reha sawal barka logo ka, to umar ke saath saath baaten samajhne me vaqt lagne lagta hai isme kisi ka koi dosh nahi.

sexy11 said...

情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣,情趣,情趣,情趣,情趣,情趣,情趣用品,情趣用品,情趣,情趣,A片,A片,情色,A片,A片,情色,A片,A片,情趣用品,A片,情趣用品,A片,情趣用品,a片,情趣用品

A片,A片,AV女優,色情,成人,做愛,情色,AIO,視訊聊天室,SEX,聊天室,自拍,AV,情色,成人,情色,aio,sex,成人,情色

免費A片,美女視訊,情色交友,免費AV,色情網站,辣妹視訊,美女交友,色情影片,成人影片,成人網站,H漫,18成人,成人圖片,成人漫畫,情色網,日本A片,免費A片下載,性愛

情色文學,色情A片,A片下載,色情遊戲,色情影片,色情聊天室,情色電影,免費視訊,免費視訊聊天,免費視訊聊天室,一葉情貼圖片區,情色視訊,免費成人影片,視訊交友,視訊聊天,言情小說,愛情小說,AV片,A漫,AVDVD,情色論壇,視訊美女,AV成人網,成人交友,成人電影,成人貼圖,成人小說,成人文章,成人圖片區,成人遊戲,愛情公寓,情色貼圖,色情小說,情色小說,成人論壇


免費A片,日本A片,A片下載,線上A片,成人電影,嘟嘟成人網,成人貼圖,成人交友,成人圖片,18成人,成人小說,成人圖片區,微風成人區,成人文章,成人影城

A片,A片,A片下載,做愛,成人電影,.18成人,日本A片,情色小說,情色電影,成人影城,自拍,情色論壇,成人論壇,情色貼圖,情色,免費A片,成人,成人網站,成人圖片,AV女優,成人光碟,色情,色情影片,免費A片下載,SEX,AV,色情網站,本土自拍,性愛,成人影片,情色文學,成人文章,成人圖片區,成人貼圖