Friday, July 27, 2007

बरसात के बाद

बरसात के बाद भीगे पत्तों की महक के साथ काली धुली, अकेली सडक पर चलते हुए वे दोनो जाने क्या कुछ सोच रहे थे।चुप्पी दीवार न थी पर सहारा तो थी ही ।शायद दोनो में से कोई भी पहल करने का जोखिम नही उठाना चाहता था । कीचड भरी फ़ुटपाथ पर रपटते हुए ,कदमों को धीरे-धीरे नज़ाकत से उठाते हुए हलकी डगमगाहट में कान्धे से कान्धा टकरा जाता है । एक सुखद अनूभूति के साथ लडकी कदमों को फिर से डगमग़ा जाने देती है ।वह चंचल है ।लडका समझ रहा है । वह सम्भाल लेता है हाथों का सहारा देकर और उसका तुरंत ही हाथ छोड देना लडकी को खिझा देता है वह कुछ और देर थामे रह ता तो ?लडका शांत और गम्भीर है ;जैसे बहुत कुछ हो उसके पास कहने के लिए या कुछ भी न हो कहने के लिए लडकी से ।या शायद वह सोच रहा हो कि इस समय मेँ वह और बहुत से काम निपटा सकता था । लडकी को उसपर लाड आता है ।घर से बाहर उसके भीतर की अल्हड प्रेमिका करवटें लेने लगती है ।वह उसका सर गोद मेँ रख कर थके मुख को चूम लेना चाह्ती है ।लडके के भीगे –बिखरे बालों को समेटने के लिए उसका मन मचलता है,पर सडक पर ? कोई बात नही ।वह हाथ बढाती है तो लडका कहता कुछ नही भवें सिकोडता हुआ उसे नादानी न करने को कहता- सा देखता है।फिर पलट कर पीछे और दाएँ -बाएँ देखता है। लडकी उबासी लेने लगती है ।उसका मन बुझने लगता है।उसे समझ नही आता कि वे दोनो साथ क्यों हैं और लगातार चल क्यों रहे हैं !वह पार्क के बेंच पर बैठना चाहती है ,वह लडके के कन्धे पर सर रखना चाह्ती है । वह चाहती है कि लडका उसके नर्म रेशमी बालों में उंगलियाँ फिराए और इस प्रेमिल नीरवता में वह घर लौट कर सैकडों कर्म करने और कई भूमिकाएँ निभाने के लिए वापस समेट ले ऊर्जा ।अचानक उसने पलट कर लडके की ओर देखा –लडका अब लडका सा नही रहा । वह आदमी हो गया है ।या वह आदमी ही था ? क्या मैने इसे आज से पहले कभी नही देखा इस तरह ?अचानक लडकी के तेवर बदलते हैं ।वह कदमों को मोड लेती है बाज़ार की ओर जैसे सहसा याद आ गया हो कोई बहुत ज़रूरी काम । आदमी नही पूछता ।मानो वह तेवर समझ गया हो । वह सब समझ जाता है ।वह इसलिए अनूकूल व्यवहार कर पाता है। कमरे के भीतर चाहे जो हो । वह बाहर एक ज़िम्मेदार पति है ।लडकी याद दिलाती है कि बाज़ार से उसे लेना है सासू माँ के अचार डालने को सौंफ और कलौंजी । और सुबह का टिफिन पैक करने को अल्यूमीनियम फ़ॉएल ।

29 comments:

masijeevi said...

ठीक है- पर लड़का तो है धीर गंभीर- उसकी कहानी कौन लिखेगा-

pryas said...

बिल्कुल सजीव चित्रण किया है, मन में काफी विचार कौंध गये

pryas.wordpress.com

अभय तिवारी said...

बढ़िया है..

Neelima said...

बहुत सही !!

notepad said...

मसिजीवी जी प्रश्न वाजिब है पर यह भी मै ही सोचूं कि उसकी कहानी कौन लिखे । आप क्यो नही लिखते?:)

Beji said...

बहुत अच्छा चित्रण...मसिजीवी जी के लेख का इंतज़ार रहेगा...पता तो चले आदमी ऐसे वक्त सोचता क्या है.. :))

shanoo said...

एक बार तो लगा कि आप कोई रोमांटिक दृश्य दिखाने वाली है फ़िर समझ आया...चल भैये अपने-अपने रस्ते इहां कोई फ़िलिम-विलिम नई होने वाली...:)

सुजाता जी दर-असल एसा होता ही है वो आदमी ही था जो इतना गम्भीर था लड़का होता तो लड़कपन होता...अच्छा सुन्दर सजीव लेख है आपका...

सुनीता(शानू)

रिपुदमन पचौरी said...

वाह ! बात को कहाँ से कहाँ ले गये आप तो। लिखने का तरीका पसंद आया।

रिपुदमन

Udan Tashtari said...

बढ़िया है एक तरफ की तो कहानी पता चली. दूसरी तरफ की तो हमें मालूम है मगर फिर भी मसिजिवी जी का नजरिया सुनना दिलचस्प होगा. गुजारिश है मसीजिवी जी से कि लिखा जाये.

Isht Deo Sankrityaayan said...

मसिजीवी भाई! लड़के की कहानी अब आप ही पुरिया दीजिए.

Shrish said...

ये अच्छी बात नहीं हम तो अच्छी खासी रोमांटिक कहानी का आनंद ले रहे थे। आपने झटका दे दिया।

tejas said...

जीवन का सत्य? प्रगति…एक मील के पत्थर से दूसरे तक का सफ़र है। इस लड्के और लड्की का नाम क्या है? :)

OnlinePharmacy said...

YWvraU Your blog is great. Articles is interesting!

tramadol dosage said...

dEPQf3 Please write anything else!

rental property in meridia venezuela said...

Thanks to author.

credit card reviews cash back said...

Hello all!

name said...

Magnific!

callaway irons review tour x said...

Please write anything else!

cit tour france said...

Nice Article.

without health insurance c said...

Good job!

ringtones said...

actually, that's brilliant. Thank you. I'm going to pass that on to a couple of people.

said...

Nice Article.

00000277htm levitra originalzion scabdisc said...

rRZSAi Thanks to author.

where can i downloa said...

Thanks to author.

www.financeglobe.com said...

How do you know that you have the better end of the bargain? Visit http://www.financeglobe.com for detailed credit card reviews.

anil verma said...

सुजाता जी, बदलते वक्त के साथ साथ इंसान के जीवन में बढ़ती जिम्मेदारियों के बोझ को बारिश के माध्यम से आपने काफी सजीव ढंग से पेश किया है। ये लेख दर्शाता है कि दिल तो बहुत कुछ चाहता है कि ये भी हो, वो भी हो लेकिन वक् और हालात सब वैसा ही नहीं होने देते जैसा हम सोचते हैं। बढ़िया लिखा, इसी तरह लिखती रहें।

अनिल कुमार वर्मा said...

सुजाता जी, बदलते वक्त के साथ साथ इंसान के जीवन में बढ़ती जिम्मेदारियों के बोझ को बारिश के माध्यम से आपने काफी सजीव ढंग से पेश किया है। ये लेख दर्शाता है कि दिल तो बहुत कुछ चाहता है कि ये भी हो, वो भी हो लेकिन वक् और हालात सब वैसा ही नहीं होने देते जैसा हम सोचते हैं। बढ़िया लिखा, इसी तरह लिखती रहें।

sexy11 said...

情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣用品,情趣,情趣,情趣,情趣,情趣,情趣,情趣用品,情趣用品,情趣,情趣,A片,A片,情色,A片,A片,情色,A片,A片,情趣用品,A片,情趣用品,A片,情趣用品,a片,情趣用品

A片,A片,AV女優,色情,成人,做愛,情色,AIO,視訊聊天室,SEX,聊天室,自拍,AV,情色,成人,情色,aio,sex,成人,情色

免費A片,美女視訊,情色交友,免費AV,色情網站,辣妹視訊,美女交友,色情影片,成人影片,成人網站,H漫,18成人,成人圖片,成人漫畫,情色網,日本A片,免費A片下載,性愛

情色文學,色情A片,A片下載,色情遊戲,色情影片,色情聊天室,情色電影,免費視訊,免費視訊聊天,免費視訊聊天室,一葉情貼圖片區,情色視訊,免費成人影片,視訊交友,視訊聊天,言情小說,愛情小說,AV片,A漫,AVDVD,情色論壇,視訊美女,AV成人網,成人交友,成人電影,成人貼圖,成人小說,成人文章,成人圖片區,成人遊戲,愛情公寓,情色貼圖,色情小說,情色小說,成人論壇


情色文學,色情小說,情色小說,色情,寄情築園小遊戲,情色電影,aio,av女優,AV,免費A片,日本a片,美女視訊,辣妹視訊,聊天室,美女交友,成人光碟

A片,A片,A片下載,做愛,成人電影,.18成人,日本A片,情色小說,情色電影,成人影城,自拍,情色論壇,成人論壇,情色貼圖,情色,免費A片,成人,成人網站,成人圖片,AV女優,成人光碟,色情,色情影片,免費A片下載,SEX,AV,色情網站,本土自拍,性愛,成人影片,情色文學,成人文章,成人圖片區,成人貼圖

Anonymous said...

annetteino opec tacoma enforce alekssandr asses nationality muse park barack maria
lolikneri havaqatsu